mediicinal plants for business and agricultural

Harvesting of ashwagandha Jawahar

अश्वगंधा के लाभ benefits of ashwagandha

Henna - Nature's beauty | Training session 13 | Narayan Dass Prajapati

जैविक प्रमाणपत्र प्रदान करने वाली संस्था

अश्वगंधा के लाभ benefits of ashwagandha

मल्टीप्लायर तकनीक से गर्मी में धनिया की बहुत मजेदार खेती संपर्क जयेन्द्र पाटीदार - 8889909107

किसान जागरूकता अभियान-1

जबलपुर में अश्वगंधा की खेती कर किसानों ने चौंकाया, 1 एकड़ में डेढ़ लाख तक हो सकता है मुनाफा

'भारत की फार्म लेडीज़'

Organic farming,जैविक खेती

Medicinal Plants Museum

Ganja उर्फ Marijuana Legal होने से किस बात का डर है? | Sciencekaari

Magical Health Benefits of Sehjan/Moringa/Munga/Drumstick | सहजन खाने के fayde | KantaBiotech

अश्वगंधा की हार्वेस्टिंग कटाई : कमलाशंकर विश्वकर्मा नीमच

Plenary Session 2: Technology and Innovation in Ayush Sector

health.camp.garur

National Workshop on Innovative Agriculture

Shri Acharya Devvrat, Hon'ble Governor Gujarat, Talk on ‘Natural Farming for a Healthy Nation’

#ashwagandha,#heena,#organic,#jaivik,#multiplier,@agriculture,#ganja,#Marijuana,#sahjan,#munga,#drumstick,#ayush,national,#Acharya Devvrat

t4unews:-mediicinal plants for business and agricultural

Harvesting of ashwagandha Jawahar

अश्वगंधा की फसल को 5:30 मांह के उपरांत हारवेस्टिंग करने के लिए कार्य आरंभ किया गया ।यह जवाहर नस्ल का अश्वगंधा था ।जिसमें किसान क्रांति की जड़ को मजबूत बनाने वाले स्प्रे का प्रयोग माइक्रोन्यूट्रीएंट और सप्लीमेंट्री बतौर किया गया। फसल की प्राप्ति को

देखकर संतोषप्रद परिस्थिति की अनुमान हुआ।

अश्वगंधा के लाभ benefits of ashwagandha

भारतीयों को अपने खान-पान में मसालों और उच्च गुणवत्ता वाले औषधि चीजों का उपयोग करने के लिए हमारे पूर्वजों ने ही सिखा दिया था ।जिसके कारण हम हल्दी ,धनिया, मिर्ची ,लॉन्ग इलायची आदि प्रकार के मसाले आरंभ से ही उपयोग करते आ रहे थे ।इसलिए हमें अब अश्वगंधा की उपयोगिता को नकारना नहीं चाहिए।

Henna - Nature's beauty | Training session 13 | Narayan Dass Prajapati

24 February 2022 जैविक प्रमाणपत्र प्रदान करने वाली संस्था 

नमस्कार किसान मित्रों। समय के साथ लोगों की सोच और नजरिया दोनों में बदलाव आया है। चूँकि लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति बहुत जागरूक हो गए हैं, यहाँ तक कि आयुर्वेदिक दवाओं को भी जैविक उत्पादों के साथ लेने की सलाह दी जाती है। ये सभी उत्पाद हमारी जमीन यानी कृषि से पैदा होते हैं लेकिन आज तक हमने अंधाधुंध विदेशी fertilizer और pesticides याने विदेशी कीटनाशकों का इस्तेमाल मिट्टी को जहर और सख्त करने के लिए किया है। ऐसी बंजर हो गई भूमि उसकी मूल स्थिति में वापस लाने में काफी समय लगता हैं। ऊसके लिए केमिकल fertilizer और pesticides का उपयोग बंद करना होगा और हमारे जैविक उर्वरक और ऑर्गेनिक कीटनाशक अपनाकर उसका उपयोग करना होगा। ऐसी जैविक खाद से तैयार हुईं ऑर्गेनिक सब्जियां, अनाज, फल वी. सत्यापित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त जैविक प्रमाणपत्र प्रदान करने वाली संस्था से यह जैविक है ऐसा प्रमाण पत्र लेना होता है। ए प्रमाणपत्र यूरोपीय संघ, कनाडा, संयुक्त राज्य अमेरिका के देशों में भी मान्य है, जिसे USDA(संयुक्त राज्य अमेरिका के कृषि विभाग के व्यावसायिक कर्मचारियों का संगठन) के रूप में जाना जाता है, जिसका मुख्यालय वाशिंगटन में है। USDA का गठन 1929 में अमेरिकी कृषि विभाग के व्यावसायिक कर्मचारी संघ द्वारा किया गया था। USDA के मुख्य चार्टर सदस्य मिल्टन आइजनहावर थे, जिन्होंने USDA में सूचना निदेशक के रूप में अपना सार्वजनिक सेवा करियर शुरू किया था। उन्होंने 1941 तक निर्बाध रूप से सेवा की। बाद में पुरी संसार में उसकी ऑफिस खुली और OPEDA का बनी। इस सर्टिफिकेट की मदद से आप अपनी फसल को दुनिया के किसी भी हिस्से में बेच सकते हैं और न केवल रुपये में बल्कि डॉलर में अच्छी कीमत पा सकते हैं। अब इस OPEDA प्रमाणपत्र को प्राप्त करने के लिए आपको सदस्य बनना होगा और इसे भारत सरकार की सहायता से प्राप्त करना होगा। भारत सरकार सब्सिडी के रूप में अपनी आधिकारिक फीस की प्रतिपूर्ति करती है जो कि बहुत ही सराहनीय है। इस प्रमाण पत्र का शुल्क हमें SUBSIDY से वापस दिया जाता है। तो हमें यह प्रमाण पत्र क्यों नहीं लेना चाहिए  ? दोस्तों कृपया यह आर्गेनिक सर्टिफिकेट प्राप्त करें और अपनी फसल की कीमत हजारों के बदले लाखों में पाएं। दोस्तों याद रहे कि MAKRIPA HERB PVT. LTD. कंपनी एक लाचार किसान को करोड़पति बना रही है। कंपनी का ध्येय तंदुरस्त समाज बनाना है। उसके लिए कवायद कर रही है। इसमें आपके सहयोग की जरूरत है। OPEDA सर्टिफिकेट धारक अपने खेत में उगाई जाने वाली किसी भी फसल चाहे वह धान, गेहूं, बाजरा, दालें, फल या सब्जियां हो अथवा दुध, मधु याने सहद इन सभी को जैविक माना जाएगा और हम इसे भारत के साथ-साथ दुनिया भर में भी जैविक रूप मे बेच सकेंगे। मित्रो हमारे पास अंतरराष्ट्रीय ग्राहक आ रहे हैं लेकिन हम उन्हें आपका कोई भी सामान सर्टिफिकेट बिना नही बेच सकते। यह प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए आप हमारे प्रबंधक श्री दिनेशभाई से सीधे संपर्क कर सकते हैं जिनका मोबाइल नंबर +91 9428308127 है। यदि आपको कोई अन्य जानकारी चाहिए तो डिस्क्रिप्शन बॉक्स में प्रश्न के रूप में बता सकते हैं हम जवाब देंगे अगर जरूरत पड़ी तो आप दिए गए पते पर प्रधान कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं। मित्रो याद रखे इसी सीजन की सब्सिडी के लिए मार्च 31लास्ट सबमिशन होगा। जो लोगों का क्रोध तैयार हो गया है उसको

बेचने के लिए अभी तुरंत संपर्क करें क्योंकि यह कंपनियों की लास्ट डेट यह फेब्रुवारी अंतिम है।

अश्वगंधा के लाभ benefits of ashwagandha

मल्टीप्लायर तकनीक से गर्मी में धनिया की बहुत मजेदार खेती संपर्क जयेन्द्र पाटीदार - 8889909107

किसान जागरूकता अभियान-1

जबलपुर में अश्वगंधा की खेती कर किसानों ने चौंकाया, 1 एकड़ में डेढ़ लाख तक हो सकता है मुनाफा

'भारत की फार्म लेडीज़'

Organic farming,जैविक खेती

Medicinal Plants Museum

Ganja उर्फ Marijuana Legal होने से किस बात का डर है? | Sciencekaari

Magical Health Benefits of Sehjan/Moringa/Munga/Drumstick | सहजन खाने के fayde | KantaBiotech

अश्वगंधा की हार्वेस्टिंग कटाई : कमलाशंकर विश्वकर्मा नीमच

Plenary Session 2: Technology and Innovation in Ayush Sector

health.camp.garur

National Workshop on Innovative Agriculture

Shri Acharya Devvrat, Hon'ble Governor Gujarat, Talk on ‘Natural Farming for a Healthy Nation’

See more .....click in image .......mediicinal plants for business and agricultural par-2

Join औषधीय खेती विकास संस्थान by whatsapp link   ...click here 

A group of  more than 2000 progressive farmers 

Credit aushdhiy kheti vikas sansthan 



Download smart Think4unity app