कार्यवाहक प्रधान आरक्षक एवं कार्यवाहक सहायक उप निरीक्षक पदोन्नति अलंकरण समारोह एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन

आज इस प्रशिक्षण कार्यशाला में रिटायर्ड डी.आई.जी. श्री मनोहर सिंह वर्मा जी के द्वारा  थाने आने वाले फरियादी के साथ आपका व्यवहार कैसा होना चाहिये , फरियादी की पुलिस से क्या अपेक्षायें होती है कि सम्बंध में तथा सेवा निवृत्त उप पुलिस अधीक्षक श्री अखिल वर्मा एवं श्री हरिओम शर्मा, के द्वारा  एफ.आई.आर. लेखन, विवेचना, साक्षय संकलन के सम्बंध में अवगत कराया गया।

कार्यवाहक प्रधान आरक्षक एवं कार्यवाहक सहायक उप निरीक्षक पदोन्नति अलंकरण समारोह एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन
अलंकरण समारोह की शुरूवात पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन जबलपुर के द्वारा

 t4unews:-दिनाॅक 9-3-21 को प्रातः 11 बजे मानस भवन में पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन जबलपुर श्री भगवत सिंह चौहान (भा.पु.से.) एवं पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) की उपस्थिति में जिला जबलपुर में पदस्थ आरक्षक से कार्यवाहक प्रधान आरक्षक के पद पदोन्नत हुये 274 आरक्षकों एवं प्रधान आरक्षक से कार्यवाहक सहायक उप निरीक्षक के पद पर पदोन्नत हुये 219 प्रधान आरक्षकों पदोन्नति अलंकरण समारोह एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम रखा गया।

                 इस अवसर पर सेवानिवृत्त उप महानिरीक्षक श्री मनोहर वर्मा, जिले में पदस्थ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर श्री गोपाल खांडेल, अतिरिक्त परीक्षा की यातायात / उत्तर श्री संजय कुमार अग्रवाल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण श्री शिवेश सिंह बघेल  सहित  समस्त राजपत्रित अधिकारी एवं थाना प्रभारी मदनमहल, लार्डगंज उपस्थित थे।  
         अलंकरण समारोह की शुरूवात पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन जबलपुर श्री भगवत सिंह चौहान (भा.पु.से.) एवं सेवानिवृत्त उप महानिरीक्षक श्री मनोहर वर्मा, तथा पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) द्वारा प्रधान आरक्षक एवं सहायक उप निरीक्षक के पद पर पदोन्नत हुये आरक्षकों एवं प्रधान आरक्षकों के कंधों  पर तीन फीती एवं सितारा लगाकर की गयी ।

                पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) ने अपने उद्बोधन में कहा कि आप सभी ने धैर्य का परिचय देते हुये काफी लंबे समय तक इंतजार किया है, आप सभी को पदोन्नति की हार्दिक बधाई। जबलपुर पुलिस कानून व्यवस्था एवं क्राईम कन्ट्रोल के लिये जानी जाती है, आपके सहयोग के बिना कोई भी कार्य सम्भव नहीं हैं, आप सभी जानते हैं कि नई जिम्मेदारियों के साथ साथ चैलेंज भी बढते हैं, अब आप सभी विवेचना अधिकारी है। आप सभी को पूरी सजगता एवं संवेदनशीलता के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन करना होगा, वर्तमान समय में यदि आप संवेदनशील रहकर कोई भी कार्य करेंगे तो आपको कहीं भी पुलिसिंग में किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं आयेगी। जब थाने कोई भी व्यक्ति आता है तो वह किसी न किसी प्रकार से पीडित होता है अपने आपको असहाय एवं ठगा समझ कर आता है, उसकी अपेक्षा होती है कि जो भी कानूनी प्रावधानो के तहत कार्यवाही बनती है की जाये, आपका भी दायित्व बनाता है कि पीडित व्यक्ति की समस्या को ध्यान से शाीलीनता पूर्वक सुनें और तत्काल विधिसम्मत कार्यवाही करते हुये उसे राहत पहुंचायें यदि उसकी शिकायत किसी अन्य विभाग के सम्बंधित है तो सम्बंधित विभाग से चर्चा करते हुये उसकी मदद करें इससे निश्चित ही उसके मन मे पुलिस विभाग के प्रति आदर का भाव होगा, यदि आपको किसी प्रकार की समस्या आती है तो तत्काल अपने सीनियर अधिकारी को बतायें वे आपकी समस्या का समाधान करेंगे।
                   आज आपकों इस प्रशिक्षण कार्यशाला के माध्यम से जो भी जानकारी दी जाती है उसे गुरूमंत्र मानकर जीवन मे आत्मसात करें इससे आपको अपने दायित्वों का निर्वहन करने में कभी भी कोई परेशानी नहीं होगी।
                    पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन जबलपुर श्री भगवत सिंह चौहान (भा.पु.से.) ने कहा कि यह एक बहुत सुनहरा अवसर है, पहली बार इतने अधिक कर्मचारी एक साथ पदोन्नत हुये हैं, आप सभी को पदोन्नति की बहुत-बहुत बधाई  ।
             पुलिस कर्मी का जो जीवन है वह हमेशा तलवार की धार पर रहता है,  पुलिस की  चुनौतिया दिनों दिन बढती जा रही है , इन परिस्थितियो में, बिना दाग के काम करना बडी चुनौती होती है। पुलिस को समाज मे व्यवस्था स्थापित करने के लिये व्यापक अधिकार दिये गये है।   समय समय पर जो नये नियम/कानून बनाये गये हैं, उनका अध्ययन अवश्य करें, जब आपको कानून का अच्छा ज्ञान होगा तभी आप निर्भीक होकर कोई भी कार्यवाही कर सकेंगे। यदि अभी आपने नहीं सीखा तो आगे कभी भी नहीं सीख पायेंगे। इन्वेस्टिगेशन आपका मुख्य कार्य है, अपराध की विवेचना में आपका राईटिंग वर्क स्ट्रांग होना चाहिये जहाॅ भी कोई कठिनाई आती है, अपने वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा कर समस्या का समाधान करें।
                  आम नागरिकों की आपसे अत्यधिक अपेक्षायें रहती है। पीडित पक्ष केा न्याय दिलाने मे आपका सकारात्मक प्रयास होना चाहिये। कोई भी इस प्रकार की सूचना जिसमें महिला/वृद्ध/समाज के कमजोर वर्गो के प्रति अपराध घटित होने की जानकारी प्राप्त होती है, उस पर त्वरित न्याय संगतपूर्ण कार्यवाही अच्छे से सोच विचार कर करें एवं पीडित पक्ष को हर सम्भव मदद करें, इसके लिये आप जब आत्मा से संवेदनशील होगें तभी पीडित को संतुष्टि मिलेगी। एफआईआर लेख करते समय विशेष सावधानी बरतते हुये सभी बातों को समावेश किया जाये, तथा सभी साक्ष्यों को संकलित करते हुये विधि विशेषज्ञों की राय अवश्य लें  कभी यह मत सोंचें कि यह पुलिस का कार्य नहीं है।  
            आज इस प्रशिक्षण कार्यशाला में रिटायर्ड डी.आई.जी. श्री मनोहर सिंह वर्मा जी के द्वारा  थाने आने वाले फरियादी के साथ आपका व्यवहार कैसा होना चाहिये , फरियादी की पुलिस से क्या अपेक्षायें होती है कि सम्बंध में तथा सेवा निवृत्त उप पुलिस अधीक्षक श्री अखिल वर्मा एवं श्री हरिओम शर्मा, के द्वारा  एफ.आई.आर. लेखन, विवेचना, साक्षय संकलन के सम्बंध में तथा उप निरीक्षक नीरज नेगी एवं आरक्षक अमित पटेल द्वारा घटित हो रहे सायबर अपराधों के सम्बंध में तथा वैज्ञानिक अधिकारी श्रीमति दीप्ति खरे  द्वारा अपराध में वैज्ञानिक साक्ष्य संकलन  एवं उसका महत्व तथा अतिरिक्त जिला अभियोजन अधिकारी रितुराज कुम्हरे के द्वारा विवेचना में बरती जाने वाली सावधानियाॅ तथा चालानी कार्यवाही के सम्बंध में, सेवा निवृत्त पुलिस अधीक्षक श्री अशोक शुक्ला के द्वारा ट्रैफिक मनेजमेंट एवं अपराध विवेचना के सम्बंध में तथा उप पुलिस अधीक्षक श्रीमति अपूर्वा किलेदार एवं निरीक्षक श्रीमति प्रीति तिवारी के द्वारा महिला सम्बंधी अपराधों की विवेचना के सम्बंध में विस्तार से जानकारी दी जा रही है।



Download smart app