अगर हिंदुत्व की सही सेवा करना है तो दुष्प्रचार करना छोड़ के सही जगह दान दे 

अगर मान भी लिया जाये की प्रेस बंद होने वाला है तो आप सीधे अपना डोनेसन गीता प्रेस को दे बिना फेक प्रचार किये। यही सही सेवा होगी। 

अगर हिंदुत्व की सही सेवा करना है तो दुष्प्रचार करना छोड़ के सही जगह दान दे 
jai jagannath hindu geeta press custodian

t4unews:-गोरखपुर में गीता प्रेस बंद करना बताना  पुरानी खबर है, समस्या का समाधान हो गया है. मगर फिर भी लोग पुरानी खबरों को गलत ढंग से धर्मान्ध्नता की आग लगाने हेतु और हिन्दूत्व   जगाने के लिए फेक न्यूज़ फैला रहे है। जिसे रोकना चाहिए। हमारे हिन्दुओ  में भी  बिड़ला डालमिया जैसे विशाल ह्रदय सम्राट लोग है जो एक नहीं अनेको प्रेस को सैकड़ो सालो तक बिना किसी आर्थिक मदद  के चलने का साम्यर्थ रखते है।  
कई फ़ेसबुक उपयोगकर्ता एक ऐसी तस्वीर के साथ एक पोस्ट साझा कर रहे हैं जिसमें यह आरोप लगाया गया है कि गोरखपुर में 'गीता प्रेस' आर्थिक तंगी के कारण बंद होने के कगार पर है। आइए पोस्ट में किए गए दावों का विश्लेषण करने का प्रयास करें।


दावा: गोरखपुर में 'गीता प्रेस' आर्थिक तंगी के कारण बंद होने के कगार पर है, जैसा कि Zee News द्वारा रिपोर्ट किया गया है।

तथ्य: 2015 में, Zee News ने अपने कर्मचारियों के विरोध के कारण 'गीता प्रेस' को बंद करने की सूचना दी थी, जिसे बाद में सुलझा लिया गया था। लेकिन प्रेस को बंद करने की वही खबर, जो ज़ी न्यूज़ ने रिपोर्ट की थी, फिर से घूम रही है। गीता प्रेस के प्रबंधन ने इसे अफवाह बताते हुए स्पष्टीकरण जारी किया है। तो, पोस्ट में किया गया दावा भ्रामक है।
पोस्ट में दावा किया गया था कि Zee News द्वारा प्रेस के बंद होने की खबर दी गई थी। जब इस मुद्दे के बारे में यूट्यूब पर खोजा गया, तो वीडियो मिला और इसे 27 अगस्त, 2015 को अपलोड किया गया। जब गीता प्रेस शटडाउन मुद्दे के लिए गूगल किया गया, तो बिजनेस स्टैंडर्ड में एक लेख मिला। 2015 में प्रेस में काम करने वाले कर्मचारियों ने वेतन और अन्य सुविधाएं नहीं मिलने का विरोध किया था। इसे बाद में प्रबंधन द्वारा सुलझा लिया गया और प्रेस की सेवाएं फिर से शुरू हो गईं। हाल के वर्षों में, ज़ी न्यूज़ द्वारा रिपोर्ट की गई शटडाउन की वही खबरें फिर से आ रही हैं। इसलिए गीता प्रेस के प्रबंधन ने वित्तीय संकट के कारण प्रेस बंद होने की खबरों को अफवाह करार देते हुए स्पष्टीकरण जारी किया है।
अगर मान भी लिया जाये की प्रेस बंद होने वाला है तो आप सीधे अपना डोनेसन गीता प्रेस को दे बिना फेक प्रचार किये। यही सही सेवा होगी। 



Download smart Think4unity app