Vedio News collection of think4unity date 06-11-2021

NetZero, tolerance ,Ek Grid, ek dharti ek surya par vivechana
300 एकड़ में फैला 49 कमरों का आलीशान होटल ही ख़रीद लिया
राष्ट्र निर्माण, Social Justice और OBC || Mandal Commission | Caste Census || Dr. Laxman Yadav
179 | बुद्ध का विरासत कैसे हड़पा गया? | Purano me Buddh Part 2 | Science Journey
घर घर जाकर ठीका ठोकेंगे मोदी जी के पहलवान
अंग्रेजों के काम आएगी भारत की धरती, मोदी जी ने ये क्या कर दिया

जीका वायरस के संक्रमण

t4unews: Vedio News collection of think4unity date 06-11-2021
Know more...............................मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की पेट्रोल और डीज़ल पर वैट रेट में चार प्रतिशत कटौती की घोषणा
300 एकड़ में फैला 49 कमरों का आलीशान होटल ही ख़रीद लिया

अयोध्या में 36 लाख रुपए का तेल जलाने के 10 मिनट बाद गरीब लोग दीयों का बचा हुआ तेल जमा करते देखे गए। जो छटाक भर तेल नहीं ख़रीद सकते वो मोदी जी का हज़ार रुपए का सिलेंडर कहां से ख़रीदेंगे? इसी दौर में अंबानी ने 600 करोड़ का महल ख़रीदा है।

राष्ट्र निर्माण, Social Justice और OBC || Mandal Commission | Caste Census || Dr. Laxman Yadav

मैं, लक्ष्मण यादव, दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाने वाला एक अस्थाई (एडहॉक) असिस्टेंट प्रोफ़ेसर हूँ. सामाजिक, सांस्कृतिक व राजनीतिक मसलों पर सोचना, समझना, पढ़ना, लिखना, बोलना और बातें करना अच्छा लगता है. सामाजिक न्याय की वैचारिकी से बेहद प्रभावित हूँ. सामाजिक न्याय के भीतर आर्थिक और लैंगिक न्याय का समर्थक हूँ. न्याय, समता और समानता पर आधारित मोहब्बत से सराबोर दुनिया का ख़्वाब देखता हूँ.

179 | बुद्ध का विरासत कैसे हड़पा गया? | Purano me Buddh Part 2 | Science Journey

इस विडियो में विष्णुपुराण, वायुपुराण , पद्मपुराण , ब्रह्मपुराण सहित अन्य पुराणों के हवाले से बुद्ध के ब्रह्मनिकरण षड़यंत्र को दिखाया गया है|

घर घर जाकर ठीका ठोकेंगे मोदी जी के पहलवान

गिरिजेश वशिष्ठ वरिष्ठ पत्रकार हैं. वो इन्डिया टुडे ग्रुप, दिल्ली आजतक, ज़ी, दैनिक भास्कर, दैनिक जागरण, सहारा समय समेत अनेक महत्वपूर्ण समाचार संस्थानों में संपादक के स्तर पर जिम्मेदारियां संभाल चुके हैं और पिछले 34 साल से लगातार सक्रिय हैं.

अंग्रेजों के काम आएगी भारत की धरती, मोदी जी ने ये क्या कर दिया

NetZero, tolerance ,Ek Grid, ek dharti ek surya par vivechana

कानपुर में कोरोना महामारी के बाद डेंगू और वायरल फीवर ने जमकर कहर मचाया अब जीका संक्रमण बेकाबू हो रहा है। आज जीका के तीस नए संक्रमित मरीज मिले हैं।


कानपुर में दीपावली के दिन जीका वायरस के संक्रमण के फैलाव में विस्फोट हो गया। अब तक के सबसे अधिक 30 संक्रमित मिले हैं। चकेरी क्षेत्र के कंटेनमेंट जोन से भेजे गए सैंपल में जीका वायरल संक्रमण की पुष्टि हुई है। नए संक्रमितों में 10 महिलाएं और 20 पुरुष हैं। इसके साथ ही जीका संक्रमितों की कुल संख्या 66 हो गई है।


सर्विलांस टीमों ने प्रभावित मोहल्लों में जाकर लार्वासाइडल का छिड़काव कराया। स्वास्थ्य विभाग ने चकेरी क्षेत्र के जीका प्रभावित मोहल्ले हरजेंदर नगर, एयरफोर्स परिसर, पोखरपुर, लालकुर्ती, मोतीनगर, अशरफाबाद, आदर्शनगर आदि से सैंपल भेजे थे। सीएमओ डॉ. नैपाल सिंह ने बताया कि 30 व्यक्तियों की रिपोर्ट जीका पॉजिटिव आई है। इनमें 10 महिलाएं हैं।


संक्रमितों को अभी होम आइसोलेशन में रखा गया है। मच्छरदानी में रहने की हिदायत दी गई है। जो 10 महिलाएं जीका पॉजिटिव मिली हैं, उनमें कोई गर्भवती नहीं है। इसके अलावा संक्रमितों में किसी को भर्ती नहीं किया गया है। अब तक कुल 28 महिलाएं जीका संक्रमित हो चुकी हैं। इनमें एक गर्भवती है, जो होम आइसोलेशन में है। संक्रमितों के मिलने के बाद अधिकारियों ने बैठक करके स्थिति की समीक्षा की।

सैंपल की जांच किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊ से कराई गई थी।  रैपिड रिस्पांस टीमों ने मौके पर जाकर संक्रमितों की हिस्ट्री ली। सीएमओ डॉ. सिंह का कहना है कि आरआरटी टीमें संक्रमितों पर लगातार नजर रख रही हैं। कांशीराम अस्पताल, डफरिन और हैलट में बेड आरक्षित हैं। अगर किसी रोगी को जरूरत पड़ेगी तो तुरंत शिफ्ट कर दिया जाएगा।
दिल्ली और लखनऊ से आई इंसेक्ट कैचर की टीम अपने साथ मच्छरों के सैंपल ले गई है। इसके पहले भी दो सौ मच्छरों के सैंपल भेजे जा चुके हैं। इनमें एक मच्छर के पेट से जीका वायरस निकला है। इसके बाद विशेषज्ञ संग्रहकर्ताओं को बुलाया गया। जिस भी मोहल्ले में जीका संक्रमित मिले हैं, वहां के एडीज एजिप्टाई मच्छरों का सैंपल लिया गया। इससे क्षेत्र के मच्छरों के जीका संक्रमित होने के संबंध में पता चलेगा।

हवा और छूने से नहीं फैलता जीका
जीका वायरस हवा और रोगी को छूने, उसके पास उठने-बैठने से नहीं फैलता है। अगर मच्छर रोगी को काटने के बाद दूसरे व्यक्ति को काटेगा तभी संक्रमण होता है। इसके अलावा जीका जानलेवा भी नहीं है। 60 फीसदी लोगों को तो पता ही नहीं चलता कि संक्रमण हुआ है।

वायरल लोड बढ़ने पर ही लक्षण उभरते हैं। जो पहले से किसी गंभीर रोग की गिरफ्त में हैं, तो अन्य वायरल संक्रमणों की तरह जीका भी पुराने रोग की जटिलताएं बढ़ा देगा। इसमें बुखार वाली दवाएं ही चलती हैं। रोगी सात दिन से 14 दिन के अंदर ठीक हो जाता है।

इतना बचाव कर लें तो सुरक्षित
- खुद को मच्छरों के काटने से बचाएं
- फुल आस्तीन के कपड़ों से शरीर ढंके रहें
- गर्भवती महिलाएं मच्छरदानी में रहें
- एक दिन से अधिक बर्तन में पानी भरा न रखें
- लक्षण उभरें तो तुरंत जांच करा लें

 Credit Amarujala



Download smart Think4unity app