सर्वोत्तम गुफ्त गूं  बताइए प्रतियोगिता -२

इस प्रतियोगिता में आप भाग लीजिए और नीचे दिए गए विकल्पों में से किसी एक विकल्प का नंबर की संख्या कमेंट बॉक्स में लिखिए और अपना नाम तथा व्हाट्सएप नंबर भी जरूर लिखें ताकि आपको विजेता होने पर इनाम भेजा जा सके यदि इसके अलावा आपके जेहन में कोई और भी अच्छी गुफ्तगू या वार्तालाप हो तो वह भी आप कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं।

सर्वोत्तम गुफ्त गूं  बताइए प्रतियोगिता -२
ramdev spoken on protest

t4unews:- सबसे बढ़िया गुफ्त गूं क्या हो सकती है इस व्यंग चित्र के लिए

गुफ्त गूं -१

रामदेव : -देखो लोम अनुलोम साथ-साथ आनी चाहिए जैसे आंदोलन किया है वैसे वापस लेना भी आना चाहिए।

राकेश टिकैत :- वो तो ठीक सै बब्बा हम लोगों लोम लोम ही जाणे सै...अनुलोम तो सरकार को लेणा सै...

गुफ्त गूं -२

रामदेव :- देखो ज्यादा जिद अच्छी नहीं है। एक बार मैंने भी की थी जणाणी के कपड़े पहनने पड़ गए थे।
राकेश टिकैत  :-  और क्या ....तो हम कहीं कपड़े छोड़ रहे हैं बचे कहां कपड़े हमारे पास।

गुफ्त गूं -३

रामदेव :- देखो राकेश तुम्हारा पेट कद्दू की जैसा गोल मटोल हो गया है लौकी का जूस पिया करो?
राकेश टिकैत :-बाबा आडानी से पहले हमने अपनी गोडाउन बना लिया है ।आप अपना जूस आडानी  को पिला दो।

गुफ्त गूं -४

रामदेव :- देखो बीजेपी वाले भी पूछ रहे हैं इसमें काला क्या है बताते क्यों नहीं?
राकेश टिकैत :-बाबा एक बार आपने भी काला को पीला किया है अभी तक वह सफेद नहीं हो पाया है ।इसके काला को आप को पहचान नहीं हो पा रही है।

गुफ्त गूं -५

रामदेव :- देखो मैं भी पहले किसान था अब उद्योगपति हूं जरा उद्योगपति की नजर से सोचा करो कितनी कठिनाई होती है उनको?
राकेश टिकैत :-बाबा हम से गेहूं खरीद लो और उसमें 25% मुनाफा जोड़कर आप आटा बेचो आपका उद्योग चल जाएगा हमारा खेती चल जाएगा। अगर ज्यादा एमआरपी किया भोजन में बिजनेस घुसाया तो जेल काटने को तैयार हो जाओ।



Download smart Think4unity app