ऑनलाइन सोलर रूफटॉप लगाना सर्वश्रेष्ठ जिसे लगाने हेतु गाइड लाइन

हम जिस प्रकार अंचल  संपत्तियों एवं चल संपत्ति सोने इत्यादि पर निवेश करते हैं, जो हमें अमूमन 8 से 10% का वार्षिक प्रतिफल देते हैं ।उस स्थान पर सोलर के द्वारा आपको लगभग 15 से 20% तक का रिटर्न या प्रतिफल मिलता रहता है । आगामी आने वाले वर्षों में विद्युत ,ऊर्जा ,पेट्रोल के बढ़ने वाले दरों से सोलर सस्ता और सुलभ होता है ।जो आपके घरेलू बजट को मजबूत बनाता है साथ ही साथ आपको आत्मनिर्भरता की ओर ले चलता है।

ऑनलाइन सोलर रूफटॉप लगाना सर्वश्रेष्ठ जिसे लगाने हेतु गाइड लाइन
Save universe by global warming

t4unews:- आजकल रिन्यूएबल एनर्जी में सोलर पावर की बहुत चर्चा है जिसमें यह सबको मालूम है कि सूर्य की रोशनी से बिजली बनाई जा सकती है। यह पिछले 60 वर्षों के अनुसंधान में देश-विदेश और आकाश सेटेलाइट इत्यादि में हम सोलर पैनल का उपयोग तथा उस से बनने वाली बिजली के बारे में जानकारी रखते हैं ।सभी को यह मालूम है कि सोलर टेक्नोलॉजी भूतकाल में बहुत ज्यादा कीमती लगभग ₹200 प्रतिवाट हुआ करती थी । वर्तमान में इसकी कीमत अब 50 से ₹60 प्रति वाट की सभी प्रकार के व्यय को देखते हुए बाजारू कीमत रखी गई है। जो सोलर में  ऑनलाइन की कीमत है इसके संबंध में हम चर्चा विस्तार से नीचे करेंगे ।

सबके दिमाग में यह बात आती है कि सोलर  बिजली बनाता है और बिजली के बिल में कटौती करता है ।सब जानते हैं कि यह बिजली से संबंधित कुछ एक ऐसा उपकरण है जो दैनिक जीवन में बिजली जैसी अति आवश्यक विलासिता की वस्तु को सुलभ बना सकती है। आरंभिक में यह डायरेक्ट करंट (डीसी) तैयार करती है। जिसे एक इनवर्टर लगाकर वर्तमान जीवन में हमारे द्वारा उपयोग किए जा रहे अल्टरनेटिंग करंट (एसी )में बदलकर अपने घर में उपयोग किया जाता है ।जिसे हम आज तक विद्युत कंपनियों द्वारा खरीद कर उपयोग करते आ रहे हैं। इस बिजली के माध्यम से हम अपने जीवन को आरामदायक तो बनाते ही थे।  अब ट्रांसपोर्टेशन याने की आवागमन के साधन में भी बैटरी युक्त गाड़ी ,कार इत्यादि में इसका उपयोग कर रहे हैं ।इसके कारण अब जीवन में बिजली की आवश्यकता परम हो चुकी है। इन हालात में यदि कितना अच्छा हो की रुपये- पैसों की तरह आप अपने घरों में या अपने अधिकार क्षेत्र में अतिरिक्त बिजली पावर बैटरी के रूप में संचित करते हुए या लगातार अपने घरों में उपयोग में आने वाली सर्किट वायरों में बिजली बनाने की क्षमता रख सके।
सोलर पावर  तीन प्रकार के होते हैं :-
१-ऑनलाइन
२- ऑफलाइन और
३-हाइब्रिड

ऑनलाइन को प्रमुखता से हम इसलिए प्रचारित प्रसारित और संधारित करते हैं क्योंकि इसमें ऑफलाइन और हाइब्रिड जैसे अतिरिक्त रूप से इसमें बैटरी रखने और उसका अनुसंधान /अनुरक्षण करने की हमें आवश्यकता नहीं होती है। जिससे हमारी अतिरिक्त राशि और अतिरिक्त समय की बचत होती है ,साथ ही साथ हम वर्तमान में उपयोग किए जा रहे हैं विद्युत कंपनियों की बिजली का उपयोग भी बखूबी कर सकते हैं। जिस प्रकार आप अपने द्वारा अर्जित किए गए धनराशि का संचालन अपनी तिजोरी या बैंक के माध्यम से करते हैं ।जब जरूरत होती है आवश्यकता के अनुसार आप रुपयों का आहरण एवं जमा करने का कार्य बैंक में करते हैं ।ठीक उसी प्रकार यदि आप प्रकृति के द्वारा सौर ऊर्जा की फोटान  द्वारा उत्सर्जित इलेक्ट्रॉन्स को  बिजली की धारा में परिवर्तित करते हुए अपने लिए प्रतिदिन का विद्युत पावर उत्पन्न कर सकते हैं। यह एक सुंदर कल्पना है। ग्रीन एनर्जी है और आपके घर जैसी संपत्ति जिसका छत किसी काम का नहीं रहता केवल टहलने और छाया के लिए भर बनाया जाता है। उसका दोहन  500% तक  बढ़ जाता है ।जितना आपकी घर के कमरे की सजावट और अन्य प्रकार के किए जा रहे विलासिता पूर्ण सामग्रियों के संग्रहण से घर की कीमत नहीं बढ़ पाती उससे कहीं ज्यादा अगर आप सोलर पैनल की स्थापना अपने छत पर करते हैं तो आपका घर पावरफुल हो जाता है और उसकी कीमत बढ़ जाती है । क्योंकि यह 25 वर्षों तक चलने वाला एक शांत ,परंतु क्रियाशील उपकरण होता है ।आज हम आपको यह बताना चाहेंगे कि आप अपने आवश्यकता के अनुरूप बिजली का निर्माण कीजिए और यदि उपयोग तत्काल कर सकें  तो अति उत्तम होता है।जहां बिजली बनाते हैं  उसी जगह पर उसका उपयोग करें यही इस अविष्कार की धारणा है। कोई ट्रांसपोर्टेशन और उसे भेजने का खर्चा नहीं हो। किसी प्रकार का लॉस या व्यय नहीं हो तथा जितने यूनिट आप अपने छत पर बनाते हैं उतना पूरा आप दोहन आप स्वयं करते हैं या संचित होने की स्थिति में उसे विद्युत कंपनी के लाइनों के ग्रेड में एक्सपोर्ट कर देते हैं ।जिसकी गणना और हिसाब आपका नेट मीटर करता रहता है कि कितनी बिजली आपने बनाकर भेज दी है और रात्रि को या आवश्यकता पड़ने पर आपने विद्युत ग्रिड से कितनी बिजली वापस इंपोर्ट कर ली है ।इन सब की क्रियान्वयन के बीच आपको पता चलता है के यदि आपने 3 किलो वाट का संयंत्र ऊपर लगाया है तो वह आपको 400 से  450 यूनिट तक की बिजली प्रतिमाह  पैदा करके दे सकता है। जिसका घरेलू बाजार मूल्य लगभग ढाई हजार से 3000 के बीच हो सकता है । आप लगभग उतना ही बिल बिजली कंपनियों को प्रतिमाह  देते भी रहते हैं। इसके बाद  प्रक्रिया न्यूनतम बिल की हो जाती है और मात्र विद्युत लाइनों को एक स्टेपनी के तौर पर बनाए रखने के लिए ₹100 लगभग का किराया प्रति माह आपको आता है। यह एक फायदेमंद सौदा है ।हम जिस प्रकार अंचल  संपत्तियों एवं चल संपत्ति सोने इत्यादि पर निवेश करते हैं, जो हमें अमूमन 8 से 10% का वार्षिक प्रतिफल देते हैं ।उस स्थान पर सोलर के द्वारा आपको लगभग 15 से 20% तक का रिटर्न प्रतिफल मिलता रहता है । आगामी आने वाले वर्षों में विद्युत ,ऊर्जा ,पेट्रोल के बढ़ने वाले दरों से सोलर सस्ता और सुलभ होता है ।जो आपके घरेलू बजट को मजबूत बनाता है साथ ही साथ आपको आत्मनिर्भरता की ओर ले चलता है।

यह एक स्मार्ट कंसेप्ट है। जिसे धीरे-धीरे लोग अब समझते जा रहे हैं और प्रशासन भी देर से सही पर अब दुरुस्त रूप से 3 किलो वाट तक के लोन पर 40% तक की और 5 किलो वाट तक के लोन पर 20% तक की अनुदान प्रदान करते हुए सीमित समय के लिए इस योजना को बूस्ट कर रहा है ।इसमें जो भी जागरुक एवं भाग्यवान ग्राहकों जो अनुदान के साथ-साथ विद्युत कंपनियों के अपने कालोनियों या क्षेत्र में लगाए गए ट्रांसफार्मर की क्षमता के अनुरूप तकनीकी दृष्टिकोण से फीजिबिलिटी 20% स्थाई लोड को मैच कर सकने की जो शर्तें होती हैं उसका परिपालन करते हुए शीघ्र अति शीघ्र अपना स्थान सुनिश्चित कर लेंगे। देर से आने वाले लोगों को बाद में जिस प्रकार की कठिनाई या परेशानी का सामना करना होगा उसे तो भविष्य ही जानेगा।
इस प्रकार के सोलर पैनल के द्वारा पैदा कर पैदा की जा रही बिजली का सही फायदा उपभोक्ता के साथ-साथ विद्युत कंपनियों और विद्युत पैदा करने वाली कंपनियों को भी अप्रत्यक्ष रूप से मिलेगा क्योंकि उन्हें बिजली पावर स्टेशन से लेकर हजारों किलोमीटर दूर उपभोक्ता के घर तक लाते तक अनेक प्रकार के विद्युत विद्युत लॉस का जो हनी भोगना होता था वह अब नहीं होगा। साथ ही साथ सिस्टम भी काफी मजबूत होगा और दिन के समय उद्योगों को किसानों को या जरूरतमंद लोगों को दिए जाने वाले बिजली में अलग से जो टैरिफ का प्रावधान होता है वह भी काफी रिलैक्स होगा ।अतः देखा जाए तो इसमें आम के आम और गुठली के दाम है। जो इच्छुक उपभोक्ता इस प्रकार की प्रक्रिया में भाग लेना चाहते हैं वह विद्युत कंपनियों के साइट में दिए गए लिंक के आधार पर अपने आवेदन को ऑनलाइन बुक करें और बुकिंग करते समय रु 1000 का भुगतान नियमानुसार करें ।
जिससे कि विद्युत कंपनियां यह सुनिश्चित करेगी कि उनके क्षेत्र में उन्हें सोलर पावर से युक्त करने में कंपनी को किसी प्रकार की कोई असुविधा नहीं है ।आपकी आवेदन को विद्युत कंपनी से स्वीकृति के उपरांत पैनल लगाने हेतु  यह कार्य कंपनी के पैनल में उपलब्ध ठेकेदारों को हस्तांतरित कर देगी ।जो आगे का कार्य आपको प्रचलित नियमों के तहत निर्धारित अनुदान/छूट की राशि सुविधा अनुसार प्रदान करते हुए इस कार्य को अंजाम देंगे नवागंतुक उपभोक्ताओं को मदद करने के लिए थिंक फॉर यूनिटी के द्वारा अपने पोर्टल में एक सामान्य सर्वे का फॉर्म लिंक जोड़ दिया जा रहा है ।

Fill your information for survey & support


जो आपके मोबाइल फोन या कंप्यूटर सिस्टम से ओपन हो कर भरकर प्रेषित करने के बाद ज्वाइन श्री पावर सोलर यूनिवर्सिटी के सदस्य स्वत: आपसे संपर्क करेंगे और आपको मदद करते हुए इस कार्य को पूर्ण करने के लिए आगे आएंगे ।जिनका उद्देश्य पर्यावरण एवं इस दुनिया को ग्रीन पावर संयुक्त करते हुए कार्बन उत्सर्जन को कम करते हुए फॉसिल फ्यूल के उत्पादन तथा खपत को कम करते हुए ग्लोबल वार्मिंग से इस दुनिया को बचाने का कार्य होता है।



Download smart app