किसान अपनी बदहाली के लिए स्वयं जिम्मेदार है।

चावल गेहूं और गन्ने की फसल जैसी कैश क्रॉप को अगर हम नजरअंदाज कर दें तो सब्जियों के क्षेत्र में किसानों की बदहाली होने के पीछे मुख्य कारण स्वयं की उसकी अशिक्षा ,अकर्मण्यता और दूरदर्शिता और अलग-अलग अपने बिखरे हुए होने का मुख्य कारण है

t4unews:-माहौल क्या है में अगर सही ढंग से ग्राउंड जीरो से रिपोर्टिंग और हाले वाक्य को समझा जाए तो यह बात सही लगती है कि किसान ही अपनी अकर्मण्यता और अज्ञानता के कारण पीड़ित हैं ,अन्यथा देश में पिछले 70 सालों से बनाए गए कानून में कई ऐसे ही बिंदु हैं जिसका अगर वह एकता  से उपयोगकर्ता अपनी जागरूकता के साथ किसानी करता तो उसकी इतनी बदहाल स्थिति नहीं होती। जैसे किस फसल को कितनी संख्या में बोये और उसका खपत कहां तक होगा उसके हिसाब से पैदावार करना, लगाना। खासकर सब्जियों के क्षेत्र में उसकी टाइमिंग का ख्याल रखना और वह बिकेगी कहां इस बात का ख्याल रखना ।अगर यह सब किसान सचेत हो जाए तो ऐसी सब्जियों के संबंध में कीमत  कभी आसमान के अर्स में तो कभी फर्श में वाली स्थिति कभी ना आए।

चावल गेहूं और गन्ने की फसल जैसी कैश क्रॉप को अगर हम नजरअंदाज कर दें तो सब्जियों के क्षेत्र में किसानों की बदहाली होने के पीछे मुख्य कारण स्वयं की उसकी अशिक्षा ,अकर्मण्यता और दूरदर्शिता और अलग-अलग अपने बिखरे हुए होने का मुख्य कारण है



Download smart Think4unity app