जिस घर में लगा ना हो सोलर पैनल उस घर में बेटी ब्याहना नहीं

अगर हमारे पास बिजली के वैकल्पिक स्रोत नहीं होंगे तो हमें ग्रिड के ऊपर निर्भरता करना होगा और विद्युत कंपनियों द्वारा बेची जा रही ग्रिड की बहुमूल्य बिजली का ही भुगतान करना होगा। कितना अच्छा हो कि लोग अपने साथ जीवन शुरू करने के समय ही ऐसे संसाधनों को अपने साथ इकट्ठा कर लाए या बनाएं जो उन्हें जीवन में तनाव मुक्त रखें। साथ ही साथ उनको आनंददायक जीवन ,लग्जरियस लाइफ स्टाइल ,वातानुकूलित माहौल में उन्हें और उनके आने वाले संतानों को परवरिश देने में सक्षम हो सकें।

जिस घर में लगा ना हो सोलर पैनल उस घर में बेटी ब्याहना नहीं
शादी करें लेकिन सोलर पैनल के साथ भेजें
t4unews:- ब्याना शब्द की उत्पत्ति ही किसी वस्तु के वढ़ जाने से होती है। बयाना याने किसी भी वस्तु का बढ़ जाना ,एक से दो हो जाना, दो से अनेक हो जाना। इसीलिए लोग ब्याह करते हैं ।पर हम देखते हैं कि ब्याह शादी होने के बाद अमूमन लोगों के पारिवारिक जिंदगी तो बढ़ती है लेकिन खर्च भी  बढ़ जाती है ।जहां एक व्यक्ति अपना गुजर-बसर आसानी से कर लेता था वहां अब तो लोगों का परिवार और दो जिंदगानी साथ-साथ उसके बाद आने वाली नई जिंदगानी का खर्च। इसके साथ-साथ यदि जीवन संगिनी फिजूलखर्ची हो जाए या खुले हाथ से खर्च करनें वाली हो जाये , बिना जमा पूंजी और कल की चिंता किए हुए तब तो समझो घरेलू बजट का बंटाधार हो जाना तय है ।अपनी अपनी फितरत और परवरिश करने का तरीका ।अपनी अपनी संस्कार या जैसा लोगों को परिवार में क्या  सिखाया जाता है इस पर कोई बहस नहीं किया जा सकता ।क्योंकि सबको अपने अपने जीने का तरीका पसंद है। परवरिश करने के ऊपर ही संस्कार निर्भर करते हैं। जब तक एक संपन्न घराने की लड़की या लड़का पक्ष जिस प्रकार की सुविधा संपन्न, लग्जरियस ,आनंद प्रदायक माहौल में रहने के आदी हो जाते हैं ।वह अपने खर्च और ऐसो आराम में कोई कटौती करना स्वीकार नहीं कर सकते क्योंकि सबको मालूम है यह जीवन क्षणभंगुर है ।आज है कल चले जाएंगे इसलिए आज को आनंद के साथ जिया जाए। आनंद को लूटते हुए घर को विलासी पूर्ण सुविधाओं में तब्दील करने के लिए जरूरत होती है परम आवश्यक पावर बिजली की ।

अगर हमारे पास बिजली के वैकल्पिक स्रोत नहीं होंगे तो हमें ग्रिड के ऊपर निर्भरता करना होगा और विद्युत कंपनियों द्वारा बेची जा रही ग्रिड की बहुमूल्य बिजली का ही भुगतान करना होगा। कितना अच्छा हो कि लोग अपने साथ जीवन शुरू करने के समय ही ऐसे संसाधनों को अपने साथ इकट्ठा कर लाए या बनाएं जो उन्हें जीवन में तनाव मुक्त रखें। साथ ही साथ उनको आनंददायक जीवन ,लग्जरियस लाइफ स्टाइल ,वातानुकूलित माहौल में उन्हें और उनके आने वाले संतानों को परवरिश देने में सक्षम हो सकें।
 हम यहां आपके उस खाली पड़े हुए छत की बात कर रहे हैं जिस पर यदि आपने सोलर पैनल लगा दिया तो उससे निकलने वाले बिजली के उत्पादन से आपके घर का बजट तो संभल ही जाएगा साथ ही साथ आपको किसी भी प्रकार की बिजली के ज्यादा बिल आने के तनाव से मुक्ति मिलेगी या दूसरे शब्दों में कहा जाए कि आपने सही मामले में लक्ष्मी का घर में आगमन करवाया है।आपको सौ से ₹200 की बिजली बनाकर प्रतिदिन प्रदान करेगा।


Download smart app