डॉक्टर ने अपना बिजली बिल 96% तक घटाया सोलर पावर के द्वारा

t4unews:-रिन्यूएबल एनर्जी की ओर बढ़ने के लिए ऐसे कई बहुतेरे कारण हो सकते हैं जो आपको प्रोत्साहित करते हैं कि आप संपोषणीय तरीके (सस्टेनेबल तरीके )से जीवन को जियें।

सर जो जांन कोच्चि करेला में रहते हैं उनके लिए यूनाइटेड किंगडम के द्वारा प्रस्तावित सन 2030 तक सारे व्हीकल को हाइड्रोकार्बनफ्यूल एनर्जी से मुक्त करते हुए रिन्यूएबल एनर्जी की ओर मुडते जा रहे हैं। अपने ट्रांसपोर्टेशन सिस्टम के साथ-साथ घर की ऊर्जा को भी इलेक्ट्रिक एनर्जी प्रदान करने के लिए सोलर सिस्टम का प्रयोग करने वालों में श्री जो जान कोच्चि के एक सिटीजन  है ।

जो जॉन पेशे से  एक एनेस्थेटिक डॉक्टर हैं जो कोच्चि करेला से संबंधित है ।उन्होंने अपनी जानकारी में बताया है कि जैसे ही वह सोलर एनर्जी के सिस्टम से जुड़े उनके इलेक्ट्रिसिटी का बिल रूके ₹4000 प्रति माह से घटकर मात्र ₹140 प्रति माह तक का हो गया है ।वह सोलर पावर से अपने घर की बिजली के अलावा अपने वाहन को चार्ज करने की काम भी लेते हैं जिससे उनके  मासिक पेट्रोल फ्यूल के खर्च में भी विशेष गिरावट आई है।


श्री जो जान  के अनुसार उन्होंने अपने घर में भी सोलर सिस्टम का ऐसा स्थापित किया है जिससे वह अपने इलेक्ट्रिक व्हीकल कार को एनर्जी चार्ज करने में सहयोग लेते हैं और अपने प्रति माह की विद्युत के बिल में इतनी कटौती ले आए हैं कि  बिजली बिल में मात्र  4% भार ही भार यूटिलिटी कंपनी का पड़ रहा है अर्थात 96% एनर्जी की पूर्ति रिन्यूएबल सोर्स सोलर  से ले रहे हैं। अपने 5 किलो वाट का सोलर पावर सिस्टम रू  350000 में इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड के ग्रेड से संयोजित कराया है। जून 2020 की को टाटा नेक्सन इलेक्ट्रिक व्हीकल भी परचेस किया है ।जिसे वह अपने घर की बिजली से ही चार्ज करते हैं। पहले उन्हें हाइड्रोकार्बन फ्यूल के द्वारा याने पेट्रोल डीजल के द्वारा प्रति किलोमीटर ₹8 की दर से खर्च आता था वही इलेक्ट्रिक कार के द्वारा घर के गेट से चार्ज करने के कारण मात्र 50 पैसे से ₹1 का खर्चा आ रहा है। जो न्यूनतम से भी कम है। उनकी बैटरी कार की लाइव 8 वर्ष की वारंटी में है जैसा कि वह बताते हैं इस प्रकार सबसे कम लागत में व्हीकल का खर्च उन्हें इलेक्ट्रिक व्हीकल के द्वारा हो रहा है ।जहां सोलर पैनल के द्वारा उन्हें प्रतिदिन की  बिजली सोलर पैनल के द्वारा उत्पन्न कर कर मिल रही है जिसमें से वह 25 यूनिट अपने इलेक्ट्रिकल व्हीकल को फुल चार्ज करने के लिए एक बार में लगा देते हैं ।जो एक बार चार्ज होने के बाद 400 किलोमीटर तक सफर करती है। जिसे बार-बार चार्ज करने की कोई आवश्यकता भी नहीं पड़ती। फिर वह अपने घर की एयर कंडीशनर, रेफ्रिजरेटर, वॉशिंग मशीन ,सिटी माइक्रोवेव, टेलीविजन आदि सभी चीजें सोलर सिस्टम से कनेक्टेड 5 किलोवाट लोड से ही चलाते हैं।
जानकारी के अनुसार उन्हें गर्मियों में मात्र ₹70 से ₹140 तक का ही बिजली का बिल आता है जो एक गरीबी रेखा से भी नीचे परिवार के बिल से कम का होता है। मध्यप्रदेश की टैरिफ गणना के अनुसार जो जान कहते हैं कि सोलर पैनल के उपयोग से जो बिजली हम उपयोग करते हैं वह डीजल या पेट्रोल से पैदा की गई बिजली से कई गुना कम लागत की होती है और प्रदूषण भी कम करती है ।जिस शहर में इस प्रकार के लोग रहते हो वह शहर  क्यों स्मार्ट ना हो ।इस देश में चंडीगढ़ सोलर सिटी के नाम से जहां मशहूर है वहीं दक्षिण भारत में प्रदेश के कोच्चि शहर भी उनसे बराबरी करने में लगा हुआ है।

अगर हम हमारे आसपास की व्यर्थ में वही जा रही सोलर ऊर्जा को हम अपने उपयोग में पकड़ कर ला सकें तो हमारे घर से ज्यादा हमारे घर का छत यानी कि रूफटॉप हमें एक ड्राइंग रूम या एक घर के पूरे किराए प्राप्त होने वाले से कहीं ज्यादा का लाभ, राजस्व प्रदान कर सकता है। प्रतिदिन कैश फसल की तरह सीधे-सीधे यूटिलिटी ग्रिड को बिक सकता है , बिना किसी उधार के हमें मिल सकता है क्योंकि ऑनलाइन सिस्टम करता है ।आप ज्यादा से ज्यादा लोगों तक अपनी बिजली बनाकर ग्रिड के माध्यम से उसे यूटिलिटी कंपनी को दे सकते हैं। हाइब्रिड सिस्टम के द्वारा आपके घर की कुछ इमरजेंसी लोड को बैटरी के द्वारा भी संयोजित करते हुए स्मार्ट और आत्मनिर्भर बनाने में इंजीनियर अपनी पूरी दमखम और शक्ति लगा देते हैं।जो 8 से 10 साल तक चलने वाली बैटरी के प्राइस की होती है जो 10 सालों तक के लिए फ्री होकर चलती है उसे आप खरीदने में सक्षम हो तो आपका घर पावरफुल बन जाता है ।जो किसी के सहयोग मदद या आउट सोर्स ,ग्रिड सप्लाई के सिस्टम से कहीं ज्यादा उन्नतऔर समृद्ध होता है।

डॉक्टर ने अपना बिजली बिल 96% तक घटाया सोलर पावर के द्वारा
Dr Jo John house kochchi

1. रिन्यूएबल एनर्जी क्या सस्ती पड़ती है वर्तमान में खरीदी जा रहे या जनरेटर से बनाए जा रहे बिजली से?

सोलर रूफटॉप लगाना पेचीदा काम है बहुत तामझाम करना पड़ता है छत खराब हो जाती है।
यूटिलिटी कंपनी के ग्रिड यानी लाइनों से बिजली लेना सहज काम है परंतु दिन प्रतिदिन इसकी कीमत बढ़ती जा रही है यह सोलर से महंगी पड़ती है।


Download smart Think4unity app