बहुत जल्द अब ₹50000 में ई व्हीकल बिकेगा

अगले 5 साल में सरकार की 600 से ज्यादा जगहों पर रोड-साइड सुविधाएं विकसित करने की योजना है। इन सभी जगहों पर निश्चित रूप से EV Charging की सुविधा मिलेगी। यदि आपके पास कमर्शियल पॉइंट है और अप्रोच रोड इत्यादि की सुविधा है तो आप भी अपना चार्जिंग स्टेशन खोलने को तैयार रहें।

t4unews: इलेक्ट्रिक व्हीकल चलाने के लिए दीवानों के लिए अब सबसे बड़ा EV बाजार होगा भारत मजबूत होगा EV Charger नेटवर्क

सरकार दे रही वैकल्पिक ईंधन को बढ़ावा । बहुत जल्दी ही लोगों को इस बारे में जानकारी मिलने वाली है की देश में EV की ज्यादा कीमतों के बारे में केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि भारत सिर्फ एक EV क्रांति दूर है. इसके बाद परिस्थितियां बदलने लगेंगी। आने वाले एक-दो साल में इलेक्ट्रिक व्हीकल की कीमतें पेट्रोल और डीजल की कारों के बराबर होंगी।

क्या यह सच है?

250 स्टार्टअप लाएंगे EV क्रांति!
इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स के एक कार्यक्रम में गडकरी ने कहा, ‘‘इलेक्ट्रिक व्हीकल की कीमत ज्यादा होने की वजह इनकी संख्या कम होना है। और सबसे बड़ी कारण तो इनकी बैटरी के  कीमती होने का कारण है।लेकिन भारत को एक ईवी क्रांति का इंतजार है और करीब 250 स्टार्टअप कंपनियां ईवी टेक्नोलॉजी को सस्ता बनाने के लिए लगातार इनोवेशन कर रही हैं।वहीं कई बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनियां भी इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाने उतर चुकी हैं, तो इससे कॉम्पिटीशन बढ़ेगा और इलेक्ट्रिक व्हीकल की कीमतें नीचे आएंगी.’’ऐसा लोगों का मानना है परंतु सच्चाई कुछ उल्टी भी है आज बाजार में ₹50000 प्रति स्कूटी से लेकर डेढ़ लाख रुपए टक्के मोटर बाइक्स एवं स्कूटी उपलब्ध है जो अपनी अपनी टेक्नोलॉजी क्वालिटी और सुविधाओं के चर्चा करते हुए सस्ता महंगा का रेट बनाए हुए हैं।

मिलेगी EV Charger की सुविधा
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) का कहना है कि भारत बहुत जल्द दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रिक व्हीकल बाजार होगा।अगले 5 साल में सरकार की 600 से ज्यादा जगहों पर रोड-साइड सुविधाएं विकसित करने की योजना है। इन सभी जगहों पर निश्चित रूप से EV Charging की सुविधा मिलेगी। यदि आपके पास कमर्शियल पॉइंट है और अप्रोच रोड इत्यादि की सुविधा है तो आप भी अपना चार्जिंग स्टेशन खोलने को तैयार रहें।

वैकल्पिक ईंधन को बढ़ावा
कार्यक्रम में गडकरी ने सवाल किया कि आपको अगर महंगे और प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों के मुकाबले कम मेंटिनेंस, प्रदूषण नहीं फैलाने वाले इलेक्ट्रिक व्हीकल का विकल्प मिले तो आप क्या चुनेंगे? हम ईवी के साथ-साथ इथेनॉल, बायो-एलएनजी, ग्रीन हाइड्रोजन जैसे वैकल्पिक ईंधन को भी बढ़ावा दे रहे हैं। अगर विश्व बैंक और भारत के अपने बैंक सही तरीके से लोगों को सुविधाएं प्रदान करें फंडिंग करें तो ऊर्जा के क्षेत्र में भारत निसंदेह आत्मनिर्भर होने के साथ-साथ ऊर्जा को विक्रय करने का  बहुत बड़ा हब बन कर ऊभरेगा ।

साभार :मूल जानकारी प्राप्त आज तक साइट से



Download smart Think4unity app